ऊर्जा अपरिमित – Episode 24

Silence is stairway to tranquility.

SILENCE

In the race to get ahead of everyone, we have forgotten the true value of spending time away from all, in silence. It is truly rewarding to be with oneself alone. When we allow our brain to not be filled with outer clamour, we allow our creative juices to flow, our energies to replenish and our body to be in complete sync with our mind. All this happens because the sound of silence is sweeter and louder than everything. So, take a break, sit quietly and absorb all that silence has to offer.

Tune in today’s episode and learn how to embrace these moments of silence and see your life and energies bloom.

Follow my podcast on Energy Consciousness every Thursday

17 comments on “ऊर्जा अपरिमित – Episode 24
  1. COL RAJESH MALHOTRA says:

    Great knowledge… Thanks for sharing 👍😊

  2. COL RAJESH MALHOTRA says:

    Great knowledge… Thanks for sharing 👍🙏🏻

    1. KAUSHALYA Arya says:

      Respected ma’am
      Incredible knowledge about silence. Be with your own self , introspection with oneself is truly the greatest power of an individual. People should spend more time to acknowledge them selves in every aspect of life . Considering your podcast is absolutely a divine message that you have put forward . Thankyou so much ma’am for sharing such great knowledge .

  3. Suman saini says:

    बहुत ही अच्छा विषय और अत्यंत सुन्दर प्रतिपादन। भागवत्पुराण में बताए मोक्ष के दस साधनों में से प्रथम मौन है। आपने मौन के सभी पक्षों –‐मानसिक, शारीरिक,भावनात्मक और आध्यात्मिक पर गहन विमर्श प्रस्तुत किया है, जितनी बार भी सुना,कुछ नया भाव निकल कर आया——आजकल जी रही हूं मौन को,इसलिए दिल के बहुत करीब लगा।

    1. Mohan lal saini says:

      Mamad ji jai swachhta ,silence ak bhut hi important sabad he ,kai bar mood ka silence rhna bi aacha rhta.he

  4. Gaytri bajaj says:

    Once again an amazing episode..silence gives us self analysing..calm n quiet moments makes our brain more strong..very beautifully described by u… thanks once again.. will be waiting for the next one

  5. Surinder Kumar Makkar says:

    In the End,we will remember not the words, but the silence of our friends.

  6. Surinder Kumar Makkar says:

    More often than not, you will never be judged by your intentions because the world can’t read minds and very few will know the heart of a person they have not given time to know personally.

  7. Madhu Bala says:

    You have Very well explained the importance of silence in the present episode. Silence is the best form of communication also. It is always rewarding to observe silence for replenishing our energies, to be one with our mind and for learning perseverance. Thanks for sharing this.

  8. Dinesh Kumar says:

    इस बार के एपिसोड में मौन की महिमा पर चर्चा महत्त्वपूर्ण और स्मरणीय रही। मुझे याद है मेरे पूज्य पिताजी परीक्षा से पहले तथा विशेष अध्ययन-चिंतन आदि के दिनों में मौन व्रत रखा करते थे। मौन मानसिक, आध्यात्मिक दृष्टि से भी ऊर्जा संचयन का अचूक उपाय है। आप हर सप्ताह अपरिमित ऊर्जा के रहस्यों को इतने सुन्दर, सरल और रोचक ढंग से प्रस्तुत कर रहीं हैं। मेरा सौभाग्य है कि मैं इस शृंखला से जुड़ा हुआ हूं। हार्दिक आभार और शुभकामनाएं!

  9. Anita Kharub says:

    Silence is the best therapy to get over the turbulence of mind and reach inner peace.🙏🏻
    Warm regards mam.

  10. Nakul Dev says:

    Silence is golden speech is silver. One should not miss a chance to keep quite. Silence make us allow see things beyond our limitations. One more great episode… Congratulations 👌👍🙏🏻

  11. Devinder Kaur says:

    *इल्म की इब्तिदा है हंगामा*
    *इल्म की इंतिहा है ख़ामोशी*

    इन दो लाईनों में आपने सारे पॉडकास्ट का सार बता दिया।आपने जो भी बताया है मैंने भी सब experience किया है।मौन में बहुत कुछ सीखा और अनुभव किया।आपने बिल्कुल सही कहा अंदरूनी मौन होगा तो ही फ़ायदा है, सिर्फ़ शब्दों के मौन से कोई फ़ायदा नहीं।Rumi के शब्दों में
    *The quiter you become,the more you are able to hear*.
    जी!मौन पर चलकर ही अंदरूनी ताकतों से जुड़ा जा सकता है। सिर्फ़ आध्यात्मिक यात्रा के लिए ही नहीं अपितु रोज़मर्रा की जिंदगी के लिए,शारीरिक,भावनात्मक,मानसिक तौर पर भी रोज़ कुछ समय मौन में रहने से बहुत फ़ायदे हैं – जो आपने बताए हैं यानि कि soul,heart,mind,body को alignment में लाने के लिए मौन आवश्यक है।

    किसी नाराज़गी की वजह से तो मौन बिल्कुल नहीं होना चाहिए क्योंकि *Distance doesn’t seperate people*
    *Silence does*.
    ये चुप्पी रिश्तों में इतनी गहरी खाई पैदा कर देती है जो पाटनी मुश्किल हो जाती है।

    वैसे ये सही है कि जितना ज़रूरी है उतना ही बोलें, इस से हमारे अंदर सीखने की और ग्रहण करने की क्षमता बढ़ती है। ज़्यादा बोलने से हमारी बहुत सारी ऊर्जा भी नष्ट होती है।
    हमेशा की तरह गागर में सागर। कबीर, Wordsworth,Julie Potiker,Lao Tzu और शायरी से भरे ज्ञान से आपने इसे बेहद असरदार बना कर अपनी प्रभावशाली शैली में हमें समझाया है।बहुत बहुत धन्यवाद🙏🙏🙏

    24 वीं कड़ी में चेतन अवस्था में मौन का असर आपने बख़ूबी बता कर फिर से अनुगृहित किया है।वाकई मौन विचार- शून्य हो कर अहम ब्रह्मास्मी होने का एक बहुत प्रभावी तरीका है।God bless you🙏
    25 वीं कड़ी का इंतज़ार है…

  12. Very motivational & self analysing episode. So nicely explained 🙏

  13. Jai Parkash Sharma says:

    Hon’ble Madam ji, it is great episode in silence. It had been an essential part of life of the saints and our ancestors. Truly it is the best way to relax and recharge oneself.
    Kindly keep it up.
    My best wishes and all regards.
    Jai Parkash Sharma, Advocate

  14. Vibha Sharma says:

    Very motivational… Silence is meditation which relax us and give peace best regards. Vibha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *